IIT डायरेक्टर बोले-जानवरों की हत्या से हिमाचल में लैंडस्लाइड: बोले- इन्हें काटना बंद करना होगा; स्टूडेंट्स को मांस न खाने की शपथ दिलाई

IIT डायरेक्टर बोले-जानवरों की हत्या से हिमाचल में लैंडस्लाइड: बोले- इन्हें काटना बंद करना होगा; स्टूडेंट्स को मांस न खाने की शपथ दिलाई


  • Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • Shimla: Landslide In Himachal Due To Killing Animals | IIT Mandi Director Laxmidhar Behera Said | Killing Of Innocent Animals Has To Be Stopped | Took An Oath Not To Eat Meat | Himachal Shimla Mandi News

शिमलाएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

IIT मंडी के डायरेक्टर लक्ष्मीधर बेहरा कार्यक्रम में बोलते हुए।

हिमाचल प्रदेश के मंडी स्थित इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (IIT) के डायरेक्टर लक्ष्मीधर बेहरा ने प्रदेश में लैंडस्लाइड होने की अजीबो-गरीब वजह बताई है। उन्होंने कहा कि जानवरों ​की हत्या के कारण हिमाचल में लैंडस्लाइड हुए। निर्दोष जानवरों को काटना बंद करना होगा।

यह बात उन्होंने कब और कहां कही। अभी इसकी पुष्टि नहीं हो पाई, लेकिन उनका ये बयान सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हो रहा है। एक समाचार एजेंसी के अनुसार, इस वीडियो में वह बच्चों को मांस नहीं खाने की भी शपथ दिला रहे हैं।

डायरेक्टर बोले-निर्दोष जानवरों को काट रहे
छात्रों को संबोधित करते हुए बेहरा ने कहा कि अच्छे इंसान बनने के लिए आपको क्या करना होगा? मांस न खाएं। आप हिमाचल में निर्दोष जानवरों को काट रहे हैं। इसका पर्यावरण से भी संबंध है।लोग जानवरों की हत्या और पर्यावरण के बीच संबंध नहीं देख पाएंगे, लेकिन लैंडस्लाइड, बादल फटना और अन्य प्राकृतिक आपदाएं जानवरों के प्रति क्रूरता का प्रभाव हैं।

इस तबाही के कारण जानने को सरकार ने बनाई कमेटियां
हिमाचल में इस बार बारिश, बादल फटने और लैंडस्लाइड से भारी तबाही हुई है। इससे जान व माल का रिकॉर्ड नुकसान हुआ है। केंद्र व राज्य सरकार ने इस तबाही के कारण जानने के लिए अलग अलग स्तर पर कई कमेटियां गठित की हैं और वैज्ञानिक प्रमाण जुटाने के प्रयास किए जा रहे हैं।

IIT की नहीं कोई प्रतिक्रिया
इस बीच IIT मंडी के निदेशक का यह बयान सोशल मीडिया में खूब सुर्खियां बटोर रहा है। इसे लेकर जब IIT प्रबंधन का पक्ष लेने का प्रयास किया गया तो कोई रिस्पॉन्स नहीं मिला और न ही इस बयान पर IIT की तरफ से कोई प्रतिक्रिया आई है।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *