भगवान का दूसरा रूप है नूरपुर में तैनात शिशु रोग विशेषज्ञ डा. आशुतोष जोशी

Nurpur : जी हां हम बात कर रहे है नूरपुर में अपनी सेवाएं दे रहे शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ आशुतोष जोशी के बारे में जिन्हे नूरपुर व आसपास के क्षेत्र के लोग भगवान का दूसरा रूप मानते है ।

डॉ. आशुतोष जोशी को लोग यू ही नही भगवान का दूसरा रूप मानते है वजह है उनका अपने कार्य के प्रति समर्पण की भावना । आज यहां लोग पैसे कमाने के चक्कर में थोड़ा सा मशहूर होने पर सरकारी नौकरी छोड़ कर अपना क्लीनिक खोल लेते है या ज्यादा पैसे के चक्कर में निजी अस्पताल में अपनी सेवाएं देने के लिए तैयार रहते है ऐसे में डा . आशुतोष इन सब बातों से दूर बिना किसी भेदभाव के नूरपुर के अस्पताल में दिन रात अपनी सेवाएं देते दिखाई दिए जा सकते है । डॉ जोशी हर रोज लगभग 400 से 500 बच्चों को रोजाना चैक करते है । अस्पताल में हर दिन उनके कमरे के बाहर महिलाओ को अपने बच्चो को लेकर खड़े देखा जा सकता है । डॉ . आशुतोष जोशी सुबह से लेकर शाम तक जब तक लाइन में खड़े अंतिम बच्चे तक को नही लेते वह छुट्टी नही करते चाहे अस्पताल में छुट्टी का समय हो गया हो । यही नहीं डॉ जोशी छुट्टी होने पर यदि कोई अभिभावक ज्यादा बीमार होने पर अपने बच्चे को दिखाने उनके आवास पर भी चला जाए तो वह मना नहीं करते और न ही उसके बदले में कोई फीस वसूल करते है । अब तक कई बच्चो के लिए फरिश्ता बन उनका जीवन बचा चुके है डॉ जोशी ।

 अस्पताल में रोजाना इतनी बड़ी संख्या में बच्चो को देखने के बाद भी कभी डॉ आशुतोष जोशी के माथे पर शिकन नहीं दे जा सकती । यहां तक गरीब लोगो को डॉ जोशी अपने पास पड़ी सैंपल की दवाइयों को भी फ्री में बांट देते है । क्षेत्र के बुदिजीवियों का कहना हैं कि अगर सभी डाक्टर आशुतोष जोशी की तरह अपने कर्तव्य को पूरी निष्ठा व समर्पण के साथ निभाए ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *