हिमाचल सचिवालय के बाहर रातभर SMC टीचर का धरना: CM का करते रहे इंतजार, सुक्खू नहीं आए; रेगुलर करने को पॉलिसी की मांग

हिमाचल सचिवालय के बाहर रातभर SMC टीचर का धरना: CM का करते रहे इंतजार, सुक्खू नहीं आए; रेगुलर करने को पॉलिसी की मांग

[ad_1]

  • Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • SMC Teachers Remained On Strike Outside The Secretariat Throughout Night | SMC Teacher Protest | Demand Policy | CM Sukhvinder Sukhu | Himachal Shimla News

शिमलाएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
हिमाचल सचिवालय के बाहर मुख्यमंत्री से मिलने के इंतजार में SMC टीचर - Dainik Bhaskar

हिमाचल सचिवालय के बाहर मुख्यमंत्री से मिलने के इंतजार में SMC टीचर

हिमाचल के दुर्गम क्षेत्रों के स्कूलों में सेवारत SMC (स्कूल मैनेजमेंट कमेटी) टीचर रातभर सचिवालय के बाहर मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू का इंतजार करते रहे। मगर, मुख्यमंत्री इनसे मिलने नहीं आए। इनमें बड़ी संख्या में महिला टीचर भी शामिल है। पूरी रात इन्होंने सचिवालय के बाहर सड़क पर बिताई।

दरअसल, पिछले कल शिक्षा मंत्री रोहित ठाकुर की अध्यक्षता में गठित कैबिनेट सब कमेटी की मीटिंग बुलाई गई थी, लेकिन मीटिंग स्थगित की गई। इससे SMC शिक्षक भड़क गए और सचिवालय के बाहर बैठ गए। देर शाम इनसे मिलने शिक्षा मंत्री रोहित ठाकुर पहुंचे।

उन्होंने SMC टीचरों को जल्द पॉलिसी लाने का भरोसा दिया, लेकिन SMC टीचर मुख्यमंत्री से मिलने पर अड़े रहे। इसके बाद अधिकारियों के माध्यम मुख्यमंत्री तक इनका संदेश पहुंचाया, लेकिन इनसे मिलने मुख्यमंत्री नहीं आए। मसलन इन्होंने पूरी रात सड़क पर बिताई।

सचिवालय के बाहर मुख्यमंत्री से मिलने के इंतजार में SMC टीचर

सचिवालय के बाहर मुख्यमंत्री से मिलने के इंतजार में SMC टीचर

बोले- अब आश्वासन नहीं पॉलिसी चाहिए
SMC टीचर उनके रेगुलर करने के लिए पॉलिसी की मांग कर रहे हैं। इसे लेकर क्रमिक अनशन की भी चेतावनी दे चुके है। SMC शिक्षक संघ के प्रवक्ता निर्मल ने बताया कि आश्वासन उन्हें पिछले 10 सालों से मिल रहे हैं। अब आश्वासन नहीं पॉलिसी को लेकर डेडलाइन चाहते है। SMC टीचर ऐसे दुर्गम स्कूलों में सेवाएं दे रहे हैं, जहां कोई भी जाने को तैयार नहीं होता है।

उनका लंबे समय से शोषण हो रहा है। उन्होंने बताया कि बीते 12 सितंबर को शिक्षकों ने पहले ही सरकार को ज्ञापन सौंपकर 30 सितंबर तक का अल्टीमेटम दिया था, लेकिन सरकार इस पर गौर नहीं कर रही।

बच्चों की पढ़ाई हुई प्रभावित
SMC टीचरों के पिछले कल भी धरने के कारण स्कूलों में बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हुई। आज भी शिक्षक सचिवालय के बाहर डटे हुए है। यदि यह गतिरोध जल्द नहीं तोड़ा गया तो इससे आने वाले दिनों में सरकारी स्कूलों में बच्चों की पढ़ाई पर बुरी असर पड़ेगा, क्योंकि बहुत से स्कूल सिंगल टीचर के सहारे चल रहे हैं।

सचिवालय के बाहर मुख्यमंत्री से मिलने के इंतजार में SMC टीचर

सचिवालय के बाहर मुख्यमंत्री से मिलने के इंतजार में SMC टीचर

किस जिला में कितने SMC टीचर
प्रदेश के सरकारी स्कूलों में कुल 2408 SMC अध्यापक है। इनमें बिलासपुर जिले में 42 SMC टीचर, चंबा में 516, हमीरपुर में 17, कांगड़ा में 206, किन्नौर में 144, कुल्लू में 94, लाहौल स्पीति में 168, मंडी में 250, शिमला में 375, सिरमौर में 479, सोलन में 71 और ऊना में 46 शिक्षक सेवारत्त है। इनमें 750 PGT, 101 DPE, 521 TGT, 932 C&V और 104 JBT शामिल है।

मुख्यमंत्री राहत कोष में देंगे 1.51 लाख का चेक
SMC शिक्षकों से यदि आज CM मिलते है तो वह 1 लाख 51 हज़ार 151 रुपए का चेक मुख्यमंत्री राहत कोष में भेंट करेंगे।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *