हिमाचल विधानसभा का मानसून सत्र 18 सितंबर से: 7 सीटिंग होंगी; CM ने ED को बताया राजनीति का हथियार, बोले- सब लागू करते हैं

हिमाचल विधानसभा का मानसून सत्र 18 सितंबर से: 7 सीटिंग होंगी; CM ने ED को बताया राजनीति का हथियार, बोले- सब लागू करते हैं


शिमला13 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

हिमाचल प्रदेश विधानसभा का मानसून सत्र 18 सितंबर से शुरू होगा। मुख्यमंत्री सुखविंदर सुक्खू ने कहा कि 25 सितंबर तक चलने वाले इस सत्र में कुल 7 सीटिंग होगी। सरकार विपक्ष के हर सवाल का माकूल जवाब देगी। प्रदेश में आई आपदा के कारण सत्र देरी से बुलाया गया है। यदि इसे आपदा के दौरान बुलाया जाता तो पूरा सरकारी अमला राहत एवं बचाव कार्य के बजाय सत्र की तैयारियों में जुट जाता।

पुलिस जवानों को विधानसभा की सिक्योरिटी में लगाना पड़ता। जिला प्रशासन से लेकर राज्य सरकार के तमाम विभाग सदन में पूछे जाने वाले सवालों के जवान देने में जुट जाते।

सुक्खू ने कहा कि विपक्ष का विधानसभा सत्र में देरी को लेकर बयान सस्ती लोकप्रियता बटोरने का प्रयास है। विधानसभा सत्र बुलाना संवैधानिक बाध्यता है। इसका बुलाया जाना तय था। इस पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। अमूमन हिमाचल विधानसभा का मानसून सत्र अगस्त महीने में हो जाता है। मगर, इस बार सितंबर के तीसरे सप्ताह में जाकर शुरू होगा।

राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल से शिष्टाचार भेंट करते हुए मुख्यमंत्री सुखविंदर सुक्खू

राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल से शिष्टाचार भेंट करते हुए मुख्यमंत्री सुखविंदर सुक्खू

सुक्खू ने ED रेड को राजनीति हथियार बताया
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के जहां भी चुनाव आते हैं वहां ED की रेड शुरू हो जाती है वाले बयान पर सुक्खू ने कहा कि यह हथियार राजनीति का है। यह सवाल कांग्रेस शासित राज्य छत्तीसगढ़ में कुछ दिन पहले ED की रेड को लेकर पूछा गया था। इस पर बचाव करने के बजाय मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी लागू करते हैं।

राज्यपाल से की शिष्टाचार भेंट
विधानसभा सत्र के ऐलान से पहले मुख्यमंत्री सुक्खू ने राजभवन में राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल से शिष्टाचार भेंट की। मुख्यमंत्री ने राज्यपाल को प्रदेश में भारी बारिश, बाढ़, बादल फटने और लैंडस्लाइड के कारण हुई जान-माल की क्षति से अवगत करवाया। उन्होंने प्रभावित क्षेत्रों में राज्य सरकार द्वारा किये जा रहे राहत कार्यों और प्रभावितों के पुनर्वास के लिए किए गए कार्यों के बारे में भी जानकारी दी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में स्थिति धीरे-धीरे सामान्य हो रही है और सड़क एवं परिवहन व्यवस्था को सुचारू किया जा रहा है। उन्होंने राज्यपाल को 18 से 25 सितंबर तक शिमला में हिमाचल प्रदेश विधानसभा के आगामी मानसून सत्र के बारे में भी जानकारी दी। राज्यपाल ने कहा कि इस प्राकृतिक आपदा में पूरा प्रदेश प्रभावित परिवारों के साथ है।

विभागीय सचिवों के साथ की मीटिंग
मुख्यमंत्री सुक्खू ने आज सुबह सभी विभागीय सचिवों के साथ मीटिंग ली। इसमें विभिन्न विभागों की योजनाओं को रिव्यू करने के अलावा आपदा को लेकर चल रहे राहत एवं बचाव कार्य की समीक्षा की गई। दरअसल, मुख्यमंत्री सुक्खू ने प्रत्येक सोमवार को सभी सचिवों के साथ मीटिंग करने का निर्णय लिया है।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *