हिमाचल में केंद्र की टीमें कर रही तबाही का आकलन: कांगड़ा-सिरमौर में छलका आपदा प्रभावितों का दर्द; दल भी नुकसान देखकर दंग

हिमाचल में केंद्र की टीमें कर रही तबाही का आकलन: कांगड़ा-सिरमौर में छलका आपदा प्रभावितों का दर्द; दल भी नुकसान देखकर दंग

[ad_1]

  • Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • Shimla: Central Team Himachal Visit To Assess The Devastation Caused By Heavy Rain | Disaster In Himachal | Kangra Mandi Sirmaur And Baddi | Financial Assistance | Himachal Shimla News

शिमला11 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
केंद्रीय टीम कांगड़ा में आपदा प्रभावितों से बात करते हुए - Dainik Bhaskar

केंद्रीय टीम कांगड़ा में आपदा प्रभावितों से बात करते हुए

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हिमाचल में प्राकृतिक आपदा से हुई तबाही को देखने के लिए दूसरी बार केंद्रीय टीमें भेजी हैं। दो दिवसीय दौरे के पहले दिन केंद्रीय टीमें कांगड़ा और सिरमौर जिले में तबाही देख रही हैं। आपदा से हुए नुकसान को देखकर केंद्रीय टीमें भी दंग है।

इस दौरान केंद्रीय टीमें उन प्रभावित परिवारों से भी मुलाकात कर रही हैं। जिनके आशियानें हमेशा-हमेशा के लिए टूट गए हैं। ऐसे प्रभावित व्यक्ति नया घर बनाने के लिए केंद्र से मदद मांग रहे हैं। जिन क्षेत्रों में सड़कें टूट गई हैं, उन्हें जल्द बहाल करने का आग्रह कर रहे हैं।

कांगड़ा में केंद्रीय टीम और हिमाचल सरकार के अधिकारी प्राकृतिक आपदा से हुए नुकसान की जानकारी देते हुए

कांगड़ा में केंद्रीय टीम और हिमाचल सरकार के अधिकारी प्राकृतिक आपदा से हुए नुकसान की जानकारी देते हुए

आज इन क्षेत्रों में गई केंद्रीय टीम
एक केंद्रीय टीम ने आज कांगड़ा जिले के कई आपदा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया। केंद्रीय टीम ने भारी बारिश से क्षतिग्रस्त चक्की पुल, ज्वाली सब डिवीजन के अनुही इत्यादि क्षेत्रों में दौरा किया। कांगड़ा के जयसिंहपुर, फतेहपुर इत्यादि क्षेत्रों में अगस्त के आखिरी सप्ताह में खासकर पौंग डैम से पानी छोड़ने से भारी तबाही हुई है।

वहीं दूसरी टीम सिरमौर के अलग अलग क्षेत्रों में भारी बारिश, लैंडस्लाइड और बादल फटने से हुई तबाही को देख रही है।

कांगड़ा में भारी बारिश से हुई तबाही को देखते हुए केंद्रीय टीम

कांगड़ा में भारी बारिश से हुई तबाही को देखते हुए केंद्रीय टीम

कल मंडी और बद्दी जाएंगी केंद्रीय टीमें
अगले कल यानी शुक्रवार को एक केंद्रीय टीम मंडी जिला के अलग अलग क्षेत्रों में जाकर तबाही देखेगी, जबकि दूसरी केंद्रीय टीम सोलन जिले के औद्योगिक क्षेत्र बद्दी जाएगी। आपदा से बद्दी में 400 करोड़ से ज्यादा का नुकसान आंका गया है। यहां पर सड़क और पुलों को भारी नुकसान पहुंचा है।

केंद्र को रिपोर्ट देंगी टीम
अपने दो दिवसीय दौरे के दौरान केंद्रीय टीम नुकसान की रिपोर्ट तैयार करेगी और केंद्र सरकार को इसकी रिपोर्ट देगी। इसके आधार पर हिमाचल कोकेंद्र से राहत राशि मिलेगी। इस बीच हिमाचल विधानसभा में राष्ट्रीय आपदा घोषित करने और 12 हजार करोड़ रुपए के विशेष पैकेज की मांग को लेकर प्रस्ताव पास किया गया। ऐसे में केंद्रीय टीम की यह विजिट और रिपोर्ट हिमाचल को स्पेशल पैकेज दिलाने में मददगार साबित हो सकती है।

कांगड़ा में भारी बारिश से हुए नुकसान को देखते हुए केंद्रीय दल

कांगड़ा में भारी बारिश से हुए नुकसान को देखते हुए केंद्रीय दल

अभी राहत नहीं मिलने को लेकर छिड़ा घमासान
प्रदेश में अब तक केंद्र से डिजास्टर फंड के अलावा अतिरिक्त मदद नहीं मिलने को लेकर सियासी घमासान छिड़ा हुआ है। सत्ता पक्ष निरंतर विपक्ष यानी भाजपा नेताओं को आर्थिक मदद नहीं मिलने को लेकर कोस रहा है, वहीं विपक्ष डिजास्टर फंड की तीन किश्तें मिलने, मनरेगा, ग्रामीण सड़कें बनाने को मिली मदद को केंद्रीय सहायता बताकर कांग्रेस सरकार पर हमलावर है और पूर्व UPA सरकार से कम्पेयर कर रहा है।

जुलाई के बाद केंद्रीय टीमों का दूसरा दौरा
इससे पहले भी केंद्रीय टीम जुलाई में हिमाचल में नुकसान का जायजा ले चुकी है। उस दौरान केंद्रीय टीम ने कुल्लू, मंडी, शिमला और किन्नौर जिला का दौरा किया था। इस दौरान इन चार जिलों में भारी बरसात के कारण जान माल को भारी नुकसान पहुंचा था।

केंद्रीय दल नुकसान की रिपोर्ट तैयार कर केंद्र को सौंप चुका है। मगर हिमाचल को अब तक इस साल हुए नुकसान की भरपाई के लिए बजट नहीं मिल पाया। आलम यह है नेशनल हाईवे की मरम्मत को भी केंद्र से बजट नहीं मिल पाया।

कांगड़ा-सिरमौर में तबाही देख रही केंद्रीय टीम: राणा
स्टेट डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी के डायरेक्टर डीसी राणा ने बताया कि केंद्रीय टीम सिरमौर और कांगड़ा में तबाही देख रही है। केंद्रीय अधिकारी नुकसान को देखकर खुद परेशान है, क्योंकि प्रदेश में ऐसी तबाही पहले कभी नहीं हुई। प्रभावित परिवार भी केंद्रीय दल से मुलाकात कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *