हिमाचल मंत्री ने जयराम को बोला ‘पलटूराम’: विक्रमादित्य बोले- पूर्व सरकार में ठेकों के आवंटन में हुई बंदरबांट, जांच की जाएगी

हिमाचल मंत्री ने जयराम को बोला ‘पलटूराम’: विक्रमादित्य बोले- पूर्व सरकार में ठेकों के आवंटन में हुई बंदरबांट, जांच की जाएगी

[ad_1]

  • Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • Shimla: PWD Minister Vikramaditya Singh Vs Leader Of Opposition Jairam Thakur | Gave Favor To Contractors | Oppose National Disaster Resolution | Himachal Shimla News

शिमला13 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

हिमाचल प्रदेश के PWD मंत्री विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि पूर्व सरकार ने चुनावों से पहले करोड़ों रुपए के ठेके अपने चहेते ठेकेदारों को दिए। अब पूर्व सरकार द्वारा की गई बंदरबांट पर पर्दा डालने के लिए कांग्रेस सरकार पर आरोप लगा रही हैं। कांग्रेस सरकार इसे बर्दाश्त नहीं करेगी।

विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि इन ठेकों की जांच की जाएगी और जो सही कार्य पाया जाएगा, उसकी पेमेंट नहीं की जाएगी। भाजपा सरकार में निजी फायदे के लिए की गई अनियमितताओं पर पर्दा नहीं डाला जाएगा। इनकी जांच कर सच को सामने लाया जाएगा।

संकल्प का विरोध करके खुली BJP की पोल
PWD मंत्री ने कहा कि हिमाचल में सदी की सबसे भीषण तबाही हुई है। इसे देखते हुए सरकार ने राष्ट्रीय आपदा घोषित करने का संकल्प विधानसभा में लाया और तीन दिन इस पर चर्चा हुई। मगर, भारतीय जनता पार्टी ने इस प्रस्ताव का समर्थन नहीं किया। इससे BJP का असली चेहरा जनता के सामने आ गया।

जयराम को बताया पलटूराम
विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष जयराम ठाकुर को पलटूराम बताया। उन्होंने कहा कि जयराम ठाकुर आपदा को लेकर बड़ी बड़ी बातें कर रहे और जब केंद्र से मदद मांगने व राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की बारी आई तो पलट गए। उन्होंने विपक्ष के मौन पर कई सवाल उठाए।

BJP ने किया साबित, वह आम जन विरोधी
​​​​​​​विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि सदन में भाजपा ने संकल्प का समर्थन नहीं करके साबित कर दिया है कि वह आम जनता विरोधी है, जबकि कांग्रेस सरकार ने आपदा प्रभावितों के राहत एवं पुनर्वास के लिए 12 हजार करोड़ रुपए के विशेष पैकेज की मांग के लिए प्रस्ताव पास किया। इसे केंद्र सरकार को भेजा जाएगा। उन्होंने कहा कि विपक्ष का जनता विरोधी चेहरा इतिहास में याद रखा जाएगा।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *