हिमाचल कांग्रेस में सियासी संग्राम: कृषि मंत्री चंद्र कुमार को उनके ही बेटे नीरज भारती की नसीहत; बोले- विधायकों पर टिप्पणी से बचें

हिमाचल कांग्रेस में सियासी संग्राम: कृषि मंत्री चंद्र कुमार को उनके ही बेटे नीरज भारती की नसीहत; बोले- विधायकों पर टिप्पणी से बचें


  • Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • Himachal: Political Mahabharata | Himachal Congress | Neeraj Bharti | Agriculture Minister Chander Kumar | CM Sukhvinder Sukhu | Congress MLA Worker Disappointed | Himachal Kangra Shimla News

शिमला7 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

हिमाचल कांग्रेस में कभी भी सियासी भूचाल आ सकता है। कांग्रेस के दिग्गज नेता एवं MLA राजेंद्र राणा और सुधीर शर्मा के बाद पूर्व CPS नीरज भारती ने भी इसके संकेत दे दिए हैं। भारती ने फेसबुक पर अपने ही पिता एवं सुक्खू कैबिनेट में कृषि मंत्री चंद्र कुमार पर तंज कसा और चुने हुए विधायकों पर टिप्पणी नहीं करने की नसीहत दे डाली।

नीरज भारती फेसबुक पर पिता चंद्र कुमार को लिखते हैं कि अपनी कांग्रेस पार्टी के चुने हुए प्रतिनिधियों पर तंज कसने से अच्छा है कि आप अपने जिले पर ध्यान दें। हिमाचल के सबसे बड़े जिले कांगड़ा के आप एक मात्र मंत्री हैं। इसलिए अपनी पार्टी के चुने हुए विधायकों पर टिप्पणी करने की बजाय अधिकारियों और कर्मचारियों के बारे में सोचें।

अधिकारी नहीं बदले जाने की भी टीस
नीरज भारती ने कहा कि सरकार बने 8 महीने हो गए, लेकिन अब तक अधिकारी नहीं बदले गए। आम कार्यकर्ता हताश हैं। उन्होंने कहा कि चंद्र कुमार उन अधिकारियों के बारे में सोचें, जो कांग्रेस कार्यकर्ताओं को मुंह नहीं लगाना चाहते।

राजेंद्र राणा और सुधीर शर्मा को पोस्ट से गरमाई राजनीति
कांग्रेस के दिग्गज राजेंद्र राणा ने 2 रोज पहले अपने फेसबुक पर लिखा कि जो विवादों से दूर रहते हैं, वही दिलों पर राज करते हैं। जो विवादों में उलझ जाते हैं, वे अक्सर दिलों से भी उतर जाते हैं। महाभारत का प्रसंग देखिए: पांडवों ने सिर्फ 5 गांव ही तो मांगे थे और दुर्योधन ने सुई की नोक के बराबर भी जमीन देने से इनकार कर दिया था। एक जिद ने महाभारत करा दी।

राणा की इस पोस्ट के बाद धर्मशाला से विधायक सुधीर शर्मा भी सियासी विवाद में कूद पड़े। उन्होंने लिखा कि तुलसी नर का क्या बड़ा, समय बड़ा बलवान है। मतलब हुआ कि तुलसीदास जी कहते हैं, समय ही व्यक्ति को सर्वश्रेष्ठ और कमजोर बनाता है। इन दोनों दिग्गज नेताओं के कमेंट कांग्रेस में सियासी महाभारत के संकेत दे रहे हैं।

कृषि मंत्री ने सुक्खू के समर्थन में दिया था बयान
कृषि मंत्री चंद्र कुमार ने इसे अनुशासनहीनता करार दिया और मुख्यमंत्री सुक्खू के नेतृत्व पर भरोसा जताया। इसके बाद नीरज भारती ने चंद्र कुमार को खरी-खोटी सुनाई। वहीं भारती की पोस्ट ने जाहिर कर दिया कि कांग्रेस के भीतर सब ठीक-ठाक नहीं है।

कांग्रेस में विधायक, कार्यकर्ता मायूस
कांग्रेस विधायकों के साथ-साथ कार्यकर्ता भी मायूस हैं। कुछ विधायक मंत्री बनने का इंतजार कर रहे हैं। कुछ कांग्रेस नेता बोर्ड-निगमों में ताजपोशी चाहते हैं और कुछ अधिकारियों के तबादले का इंतजार कर रहे हैं। अधिकारियों के तबादले नहीं होने से कांग्रेस विधायक भी मायूस हैं। आलम यह है कि पूर्व सरकार में जो अधिकारी कांग्रेस के निशाने पर रहे हैं, वहीं आज मुख्यमंत्री सुक्खू के मुख्य सलाहाकार बने हुए हैं।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *