हिमाचल आएंगी सोनिया गांधी: 25 अगस्त को रामलोक मंदिर आने का कार्यक्रम; राहुल भी आपदा प्रभावित क्षेत्रों का कर सकते हैं दौरा

हिमाचल आएंगी सोनिया गांधी: 25 अगस्त को रामलोक मंदिर आने का कार्यक्रम; राहुल भी आपदा प्रभावित क्षेत्रों का कर सकते हैं दौरा

[ad_1]

शिमला8 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया और राहुल गांधी। - Dainik Bhaskar

कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया और राहुल गांधी।

कांग्रेस की पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी हिमाचल आ सकते हैं। अगर कार्यक्रम में बदलाव नहीं हुआ तो 25 अगस्त को वह सोलन के रामलोक मंदिर आएंगी और शीश नवाएंगी। मंदिर प्रबंधन ने गांधी परिवार को मंदिर आने और प्रतिष्ठा का निमंत्रण दिया था। जिसे सोनिया गांधी ने स्वीकार कर लिया है। ऐसा माना जा रहा है कि उनके साथ कांग्रेस के दूसरे बड़े नेता भी हिमाचल आ सकते हैं।

वहीं, कांग्रेस सूत्रों की माने तो राहुल गांधी भी प्रदेश के आपदा प्रभावित क्षेत्रों के दौरे के लिए हिमाचल आ सकते हैं। लेकिन उनका प्लान अभी फाइनल नहीं है। अगले कुछ दिन में राज्य सरकार राहुल गांधी के दौरे को लेकर स्थिति स्पष्ट करेगी।

सोलन का रामलोक मंदिर (फाइल फोटो)

सोलन का रामलोक मंदिर (फाइल फोटो)

16 अगस्त से शुरू होगा हवन कार्यक्रम

रामलोक मंदिर के मुख्य संचालक स्वामी अमरदेव ने बताया कि मंदिर की प्रतिष्ठा का कार्यक्रम रखा गया है। 16 अगस्त से हवन शुरू होगा जो 25 अगस्त तक चलता रहेगा। इस मौके पर सोनिया गांधी मुख्य अतिथि के तौर पर मौजूद रहेंगी। प्रतिष्ठा के बाद मंदिर को आम लोगों के दर्शन के लिए खोला जाएगा।

उन्होंने बताया कि सोनिया गांधी की पहले से ही मंदिर आने की इच्छा थी।

पहले भी मंदिर में माथा टेकते रहे नेता
रामलोक मंदिर पांच-सात सालों के दौरान काफी मशहूर हुआ है। यहां बड़े-बड़े नामी नेता शीश नवाने पहुंचते हैं। खासकर चुनाव के नजदीक आते ही नेता रामलोक मंदिर में आशीर्वाद लेते हैं। देश में अगले साल लोकसभा चुनाव होने हैं। इससे पहले सोनिया गांधी भी यहां पहुंचकर चुनावी शंखनाद कर सकती है।

रामलोक मंदिर का नाम वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड में
रामलोक मंदिर में नागलोक की स्थापना अंतिम चरण में है। 450 फीट ऊंचे मंदिर में सवा करोड़ ईंट लगाई गई हैं। सोलन के रूड़ा स्थिति रामलोक मंदिर को वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड में शामिल किया गया है। दुनिया की सबसे बड़ी अष्टधातु की मूर्तियां स्थापित करने की वजह से रामलोक का नाम वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड में नामित किया गया।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *