हरियाणा से कम होगी हिमाचल की दूरी: दोनों राज्यों के बीच लिंक मार्गों पर बनी सहमति; 3 ब्रिज बनेंगे, कच्चे रोड भी बनाए जाएंगे

हरियाणा से कम होगी हिमाचल की दूरी: दोनों राज्यों के बीच लिंक मार्गों पर बनी सहमति; 3 ब्रिज बनेंगे, कच्चे रोड भी बनाए जाएंगे


चंडीगढ़4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

कुछ दिन पहले हिमाचल CM सुखविंदर सिंह सुक्खू और हरियाणा CM मनोहर लाल के बीच मुलाकात हुई थी।

हरियाणा और हिमाचल प्रदेश के बीच दूरियां कम होंगी। इसके लिए दोनों राज्यों ने मुख्य मार्गों के अलावा दोनों राज्यों को जोड़ने वाले लिंक मार्गों को बनाने पर काम शुरू कर दिया है। इस काम को अमलीजाना पहुंचाने के लिए हिमाचल और हरियाणा के मुख्य सचिव मीटिंग भी कर चुके हैं।

मीटिंग में तय किया गया कि लिंक मार्गों को आवागमन के लिए दुरुस्त किया जाएगा। हरियाणा में पड़ने वाले 3 लिंक मार्ग की मरम्मत का कार्य जल्द ही किया जाएगा।

अब यहां से भी हरियाणा आ सकेंगे
मीटिंग में मुख्य मार्गों से यातायात का बोझ कम करने के लिए मोरनी से बुढयाल निंबवाला सड़क पर ब्रिज बनाया जाएगा। इसके अलावा मारकंडा नदी पर कालाअंब-बराड़ा शाहबाद रोड पर ब्रिज और रूण नदी पर टोका नारायणगढ़ रोड पर डेरा झिरीवाला ब्रिज का निर्माण भी किया जाएगा।

इन मार्गों से दूरियां कम होने के साथ ही लोगों की समय की भी बचत होगी। दोनों राज्यों के सीएम मनोहर लाल और सुखविंदर सिंह सुक्खू भी जल्द ही अन्य मुद्दों को लेकर मीटिंग करेंगे।

इन मार्गों से भी जुड़ेंगे दोनों राज्य
इन मार्गों के अलावा नवांनगर से शीतलपुर तक लगभग 2 किलोमीटर लंबे कच्चे सड़क मार्ग का निर्माण, सवा किलोमीटर लंबे मेजर इंडस्ट्री रोड मढावला बरोटीवाला तथा गुरू गोरखनाथ मंदिर से झरमाजरी वाया शाहपुर रोड़ को वाहन चलने योग्य बनाया जाएगा ताकि लोगों को आवागमन में दिक्कतें न आए। इसके साथ खुड्‌डा लोहरा, प्रेम नगर कोना रोड तथा कालुझंडा से कालका को जोड़ने वाले रोड को भी बनाया जाएगा।

सॉलिड बेस्ट मैनेजमेंट लगाएगा हरियाणा
इंडस्ट्रियल एरिया बद्दी से आने वाले वेस्ट के लिए सोलिड वेस्ट मैनेजमेंट लगाने बारे भी विचार किया गया। इसके आसपास बॉर्डर पर कई कबाड़ी वाले अवैध कब्जे करके स्क्रैप को जलाने का कार्य कर रहे हैं। इससे क्षेत्र में प्रदूषण फैलता है। इस पर हरियाणा मुख्य सचिव की ओर से पंचकूला डीसी को एमसी टीम गठित कर प्रदूषण फैलाने वाले के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिए।

इसके अलावा चंडीगढ़-बद्दी रेलवे लाइन के कार्य में राष्ट्रीय वन्य जीव बोर्ड से क्लीयरेंस लेने में सहयोग करने का आश्वासन दिया।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *