संदिग्ध युवक निकले श्रद्धालु: चिंतपूर्णी के धर्मसाल महंता का मामला, सेल्फी लेने के चक्कर में खड्ड में पुहंच गए, ग्रामीणों ने की धुनाई

संदिग्ध युवक निकले श्रद्धालु: चिंतपूर्णी के धर्मसाल महंता का मामला, सेल्फी लेने के चक्कर में खड्ड में पुहंच गए, ग्रामीणों ने की धुनाई

[ad_1]

चिंतपूर्णी43 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

हिमाचल प्रदेश के ऊना जिले के चिंतपूर्णी में शुक्रवार रात को शीतला मंदिर के पास से स्थानीय लोगों द्वारा पकड़े गए युवक संदिग्ध नहीं थे, बल्कि मां चिंतपूर्णी और शीतला माता के भक्त निकले। वे माता के दर्शनों के बाद टहलते हुए धर्मसाल महंता गांव में पहुंच गए थे। वे वहां खड्ड के किनारे सेल्फी ले रहे थे।

बताया जा रहा है कि गांव की सीमा के भीतर प्रवेश कर चुके इन युवकों को चोर समझकर ग्रामीणों ने इनकी धुनाई कर दी। कुल 5 युवकों में से 4 नाबालिग थे। सभी पंजाब के नकोदर के बेहड़ कलां गांव के निवासी बताए जा रहे हैं। युवक मां ज्वालाजी के दर्शनों के बाद चिंतपूर्णी के एक निजी होटल में रूके हुए थे।

ग्रामीणों ने चोर समझकर पीटा
मां शीतला के दर्शनों के बाद साथ लगते धर्मसाल महंता गांव में युवक जब साथ लगती खड्ड और पहाड़ियों पर घूम रहे थे तो गांव के ही कुछ लोगों की नजर उन पर पड़ गई। उन्हें शक हो गया कि यह संदिग्ध लोग हैं और चोरी करने के इरादे से यहां पर आए हैं। इस दौरान वहां काफी भीड़ भी जमा हो गई।

भीड़ के दबाव में युवक घबरा गए और गांव में आने का कोई ठोस कारण नहीं बता पाए। देखते ही देखते कुछ लोगों ने उनकी पिटाई शुरू कर दी। हालांकि गांव के ही कई लोगों ने बीच-बचाव का प्रयास भी किया और फिर पुलिस को बुला लिया। पुलिस जांच में सभी युवा बेकसूर पाए गए। वे घूमने-फिरने के इरादे से गांव में पहुंच गए थे।

कानून हाथ में लेने का किसी को अधिकार नहीं
वहीं DSP वसुधा सूद ने कहा कि बेशक चोरी की घटनाओं के बाद क्षेत्र में तनाव का माहौल है, लेकिन कानून को हाथ में लेने का किसी को भी अधिकार नहीं है। यदि कोई संदिग्ध व्यक्ति गांव में घूम रहा है या उसकी गतिविधियों पर किसी प्रकार का शक है तो स्थानीय जनता का दायित्व बनता है कि वे तुरंत पुलिस को सूचना दें।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *