शिमला-बिलासपुर फोरलेन निर्माण की तैयारी शुरू: दोनों जिलों के बीच दूरी घटेगी, 12 हजार लोगों की जमीन अधिगृहित होगी, 130 करोड़ मुआवजा मिलेगा

शिमला-बिलासपुर फोरलेन निर्माण की तैयारी शुरू: दोनों जिलों के बीच दूरी घटेगी, 12 हजार लोगों की जमीन अधिगृहित होगी, 130 करोड़ मुआवजा मिलेगा

[ad_1]

अर्की8 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
शालाघाट के समीप से गुजर रहा राष्ट्रीय उच्च मार्ग 205। - Dainik Bhaskar

शालाघाट के समीप से गुजर रहा राष्ट्रीय उच्च मार्ग 205।

हिमाचल प्रदेश में शिमला-बिलासपुर फोरलेन बनाने की तैयारी शुरू हो गई है। हाईवे के फोरलेन बनने से आने वाले दिनों में लोगों को अपने गंतव्य तक पहुंचने में ज्यादा समय नहीं लगेगा। इसके बनने से शिमला-बिलासपुर के बीच की करीब 25 किलोमीटर दूरी कम हो जाएगी।

पहले चरण में फोरलेन बनाने का कार्य अर्की के शालाघाट से बिलासपुर के नौणी के बीच शुरू होगा। इसमें सोलन ज़िले के अर्की का 18.500 किलोमीटर और बिलासपुर ज़िले का 9 किलोमीटर का क्षेत्र आएगा। वहीं 14 बीघा सरकारी भूमि व 605 बीघा निजी भूमि सहित कुल 619 बीघा जमीन इसकी जद में आएगी।

सामान्य और फलदार दोनों तरह के पेड़ कटेंगे
फोरलेन बनाने के लिए अर्की क्षेत्र में आने वाले करीब 11 हज़ार पेड़ काटे जाएंगे, जिनमें से 8 हज़ार सामान्य पेड़ हैं, जबकि 3 हज़ार फलदार पेड़ हैं। इन पेड़ों की गिनती NHAI और वन विभाग की ओर से पूरी कर ली गई है। जल्द ही इन पेड़ों को काटने के लिए टेंडर अलॉट किए जाएंगे।

पहले चरण में शालाघाट(अर्की) से नौणी (बिलासपुर) तक फोरलेन रोड पर 2 टनल बनाई जाएंगी। पहली करीब 3545 मीटर लंबी टनल सरी से रेवटा व दूसरी टनल करीब 305 मीटर लंबी धुन्दन से नलाग तक बनाई जाएगी। इस बारे में SDM अर्की केशव राम कोली ने जानकारी दी।

निर्माण कार्य जल्द शुरू कर दिया जाएगा: SDM
उन्होंने बताया कि जल्द ही फोरलेन के शालाघाट से नौणी तक का पहले चरण का कार्य शुरू हो जाएगा। फोरलेन बनने से करीब 12 हज़ार लोगों की भूमि अधिकृत की जाएगी, जिन्हें मुआवजे के तौर पर 130 करोड़ रुपए की राशि दी जाएगी। फोरलेन निर्माण कार्य में 11 हज़ार पेड़ काटे जाएंगे और 2 टनल बनाई जाएंगी।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *