शिमला के खड़ाहन तबाही देखने पहुंचे CM: बारिश से यहां 16 घर ध्वस्त​​​​​​​, 50 को नुकसान; प्रभावित परिवारों का दर्द जान रहे मुख्यमंत्री

शिमला के खड़ाहन तबाही देखने पहुंचे CM: बारिश से यहां 16 घर ध्वस्त​​​​​​​, 50 को नुकसान; प्रभावित परिवारों का दर्द जान रहे मुख्यमंत्री


  • Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • Shimla: Chief Minister Sukhvinder Singh Sukhu | Visit Flood Affected Areas | Devastation In Khadahan | Himachal Government | Himachal Theog Narkanda Shimla News

शिमला7 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

शिमला जिला के खड़ाहन बाजारा में ताश के पत्ते की तरह ढही बिल्डिंग।

हिमाचल के मुख्यमंत्री सुखविंदर सुक्खू दोपहर बाद शिमला जिले के आपदा प्रभावित क्षेत्र खड़ाहन में भारी बारिश से हुई तबाही देखने पहुंचे। इससे पहले उनका हेलिकॉप्टर बिथल में लैंड किया। हालांकि जिस स्थान पर उनकी लैंडिंग पहले से तय थी, वहां करने के बजाय 100 मीटर दूरी पर खेत के बीच बने मैदान में करवाई गई।

सोशल मीडिया में CM के हेलिकॉप्टर की इमरजेंसी लैंडिंग के दावे किए गए। मगर, पायलट ने इस बात को सीरे से खारिज किया।

सोशल मीडिया में खेत में इमरजेंसी लैंडिंग के दावे किए जा रहे है, जबकि यह लैंडिंग कॉक्रीट के बने सरफेस पर करवाई गई। पायलट ने इमरजेंसी लैंडिंग की बात को खारिज किया

सोशल मीडिया में खेत में इमरजेंसी लैंडिंग के दावे किए जा रहे है, जबकि यह लैंडिंग कॉक्रीट के बने सरफेस पर करवाई गई। पायलट ने इमरजेंसी लैंडिंग की बात को खारिज किया

अब मुख्यमंत्री सुक्खू खड़ाहन में उन प्रभावित परिवारों से बातचीत कर रहे हैं, जिनके घर जुलाई की बारिश में तहस-नहस हुए है। खड़ाहन पंचायत में अब तक 16 घर जमींदोज हो गए, जबकि लगभग 50 घरों को नुकसान हुआ है। अकेले खड़ाहन बाजार में 8 मकान क्षतिग्रस्त हुए हैं। 20 से 22 मकानों में दरारें आ गई हैं।

स्थानीय लोग इस तबाही के लिए लोक निर्माण विभाग (PWD) को दोषी ठहरा रहे हैं, क्योंकि लोगों के घरों से पीछे सड़क का पानी सालों से इकट्ठा हो रहा था। इसकी निकासी के लिए ड्रेनेज और कलवट लगाने के लिए स्थानीय लोग 12-15 सालों से लोकल PWD से पत्राचार कर रहे हैं।

खड़ाहन बाजार में भारी बारिश के बाद 3 मंजिला मकान में आई दरारें।

खड़ाहन बाजार में भारी बारिश के बाद 3 मंजिला मकान में आई दरारें।

खड़ाहन पंचायत की प्रधान रमीला देवी ने बताया कि वह 2006 से PWD को बमनोली गांव से नीचे आ रहे पानी की निकासी लिए के ड्रेन और कलवट लगाने की मांग उठाती रही हैं, मगर विभाग ने इसे नजरअंदाज किया। उन्होंने बताया कि यह मामला आज मुख्यमंत्री के समक्ष उठाएंगी। विभाग की लापरवाही की वजह से उनकी पंचायत में तबाही हुई है।

कई लोगों से हमेशा के लिए छिना उनका आशियाना

खड़ाहन पंचायत में जमीन धंसने से कई लोगों से उनका आशियाना हमेशा-हमेशा के लिए छिन गया है। ऐसे लोग अब टेम्परेरी शेड या दूसरों के घरों में रातें बिता रहे हैं। क्षेत्र में न केवल घर, बल्कि सड़क, रास्तों, दुकानों, गौशालाओं, सेब बगीचों, ग्रामीण की उपजाऊ जमीन को भी भारी बारिश से नुकसान हुआ है।

खड़ाहन में भारी बारिश से क्षतिग्रस्त सड़क

खड़ाहन में भारी बारिश से क्षतिग्रस्त सड़क

CM के दौरे से स्थानीय लोगों को बंधी आस

मुख्यमंत्री सुक्खू के खड़ाहन दौरे से स्थानीय लोगों को कुछ आर्थिक मदद की आस बंद गई है। CM सुक्खू ने प्रदेश के अलग-अलग बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करके जिनके घर टूटे हैं, उन्हें एक-एक लाख की आर्थिक सहायता का ऐलान किया है। कुछ लोगों को यह राशि वितरित कर दी गई है। ऐसे में खड़ाहन के लोगों को भी मुख्यमंत्री आज आर्थिक सहायता देने के निर्देश दे सकते हैं।

राष्ट्रीय आपदा घोषित करें केंद्र सरकार: सिंघा

ठियोग-कुमारसैन के पूर्व विधायक राकेश सिंघा ने इस त्रासदी को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग की है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कई जगह पूरे के पूरे गांव और शहर ही उजड़ गए। खड़ाहन में भी ऐसी ही तबाही हुई है। इसलिए राष्ट्रीय आपदा घोषित करना जरूरी है। इसमें कोई राजनीतिक भेदभाव नहीं होना चाहिए।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *