रिपब्लिक डे पर ‘सुखाश्रय’ रहेगी मुख्य आकर्षण: शिमला में परेड में शामिल होगी झांकी, CM सुक्खू ने अनाथ बच्चों के लिए बनाया 101 करोड़ का कोष


शिमला29 मिनट पहले

राजधानी शिमला के ऐतिहासिक रिज मैदान पर रिपब्लिक डे कार्यक्रम में सुक्खू सरकार की नई ‘सुखाश्रय’ योजना की झलक देखने को मिलेगी। विधवा महिलाओं और बेसहारा बच्चों को आर्थिक मदद देने के लिए के लिए यह योजना चलाई गई है। महिला एवं बाल विकास विभाग रिपब्लिक डे पर मुख्यमंत्री सुखाश्रय योजना को झांकी के माध्यम से प्रस्तुत करेगा।

योजना का इस तरह मिलेगा लाभद्य
मुख्यमंत्री सुक्खू ने 101 करोड़ रुपए का सुखाश्रय कोष बनाकर विधवा, निराश्रित महिलाओं और बेसहारा बच्चों के जीवन में नवज्योति जलाने के लिए यह योजना बनाई है। इस कोष के जरिए बच्चों को हायर एजुकेशन के बाद उनकी चॉइस के हिसाब से इंजीनियरिंग, मेडिकल के स्पेशल कोर्स करवाए जाएंगे।

इस योजना के तहत आने वाले बच्चों और महिलाओं को साल में 10 हजार रुपए क्लॉथ अलाउंस के रूप में मिलेंगे। इसके अलावा इसी योजना के तहत त्योहार पर महिलाओं और बच्चों को 500 रुपए भी मुहैया कराए जाएंगे, ताकि विशेष अवसर पर वह भी खुशियां मना सकें।

रिज मैदान में परेड की रिहर्सल करते पुलिस जवान।

झांकियां होंगी मुख्य आकर्षण का केंद्र
DC शिमला आदित्य नेगी ने कहा कि महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा झांकी निकालकर इस योजना के बारे में बताया जाएगा। इस योजना से प्रदेश में चल रहे बाल-बालिका व महिला आश्रमों में रहने वाले लाभान्वित होंगे। राज्य स्तरीय गणतंत्र दिवस कार्यक्रम 2023 में विभाग की झांकी को बेहतर बनाने के निर्देश दिए गए हैं। सरकार द्वारा चलाई जा रही इस योजना का मुख्य उद्देश्य प्रभावितों की सहायता करना है, जो बहुत अच्छी पहल है।

यह विभाग करेंगे झाकियां प्रस्तुत
इस वर्ष राज्य स्तरीय गणतंत्र दिवस समारोह में सभी विभाग अपनी झांकियों में आकर्षक व ज्ञानवर्धक तथा नीतियों को नयेपन के साथ प्रदर्शित करेंगे। समारोह में हिम ऊर्जा, बागवानी विभाग, कृषि, पर्यटन विभाग, पुलिस विभाग, पशुपालन विभाग, उद्योग विभाग, जिला ग्रामीण विकास अभिकरण, शिक्षा विभाग, नगर निगम शिमला, परिवहन विभाग, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग, वन विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग झांकी प्रस्तुत करेगा।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *