मणिमहेश यात्रा का शाही स्नान: डल झील में 50 हजार ने लगाई आस्था की डुबकी; अब तक अढ़ाई लाख शिव भक्त पहुंचे

मणिमहेश यात्रा का शाही स्नान: डल झील में 50 हजार ने लगाई आस्था की डुबकी; अब तक अढ़ाई लाख शिव भक्त पहुंचे


शिमला2 दिन पहले

  • कॉपी लिंक

हिमाचल में मणिमहेश यात्रा की तस्वीरें।

मणिमहेश यात्रा के शाही स्नान को हजारों शिव भक्तों ने डल झील में डुबकी लगाई। राधाष्टमी के उपलक्ष्य पर शाही स्नान को डल झील पर शिवभक्तों की भीड़ उमड़ी। इससे पहले संचुई गांव के त्रिलोचन महादेव के वंशज व मणिमहेश यात्रा के प्रमुख भागीदार शिव गुरों ने दोपहर बाद डल झील को पार करने की परंपरा का निर्वहन किया।

उसके बाद ही राधाष्टमी के पावन पर्व के शाही स्नान की शुरुआत हुई। स्नान शनिवार दोपहर बाद तक जारी रहेगा। शनिवार को श्रद्धालुओं की अधिक भीड़ जुटने की संभावना है।बताया जा रहा है कि एक ही दिन में डल झील में 50 हजार से ज्यादा श्रद्धालुओं ने शाही स्नान किया।

कल भी इस यात्रा का शुभ मुहूर्त है। लिहाजा श्रद्धालुओं के जत्थे आज भी भरमौर से काफी संख्या में मणिमहेश के लिए रवाना हुआ। शाही स्नान का शुभ मुहूर्त कल दोपहर 12:18 मिनट तक है।

23 घंटे 18 मिनट तक रहेगा स्नान का शुभ मुहूर्त

राधा अष्टमी पर शाही स्नान का शुभ मुहूर्त 23 घंटे 18 मिनट तक चलेगा। छह सितंबर से शुरू हो रही यात्रा कल पूरी हो रही है। अब तक दो लाख लोग डल झील में आस्था की डुबकी लगा चुके हैं, जो बीते सालों की तुलना में 25 से 30 प्रतिशत कम हैं।

आपदा के कारण पिछले सालों की अपेक्षा 25 से 30% कम श्रद्धालु पहुंचे
बताया जा रहा है कि भारी बारिश, बाढ़, लैंडस्लाइड और बादल फटने से हुई तबाही से इस बार लोग डरे व सहमे हुए हैं। सड़कें व रास्ते टूटे होने के डर से भी इस बार कम लोग मणिमहेश पहुंचे हैं। हालांकि आज व कल दो दिन में यह आंकड़ा तीन लाख के करीब पहुंच सकता है।

पांच श्रद्धालुओं की मौत
इस यात्रा के दौरान पांच श्रद्धालुओं की मौत हो गई है। पिछले कल ही भरमौर से युवक की नाले में गिरने से मौत हुई है। मृतक की पहचान अविशाल (22) निवासी कुगती भरमौर के तौर पर हुई। बताया जा रहा है कि अविशाल यात्रा से लौटते वक्त हड़सर बाजार के करीब 200 मीटर आगे एक नाले में गिर गया, जिससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई।

घोड़े और हेली टैक्सी से भी कर सकते हैं यात्रा
मणिमहेश यात्रा ज्यादातर श्रद्धालु पैदल करते हैं, मगर जो कुछ श्रद्धालु घोड़ों या हेली टैक्सी से भी इस यात्रा को पूरा करते हैं। घोड़े पर हड़सर से मणिमहेश के लिए लगभग 4400 रुपए चुकाना होगा, जबकि हेली टैक्सी से जाने के लिए 9000 रुपए किराया देना होगा। पैदल भी श्रद्धालु इस यात्रा को पूरा कर सकते हैं।

HRTC ने चलाई अतिरिक्त बसे
शाही स्नान के लिए हिमाचल प्रदेश पथ परिवहन निगम (HRTC) ने अतिरिक्त बसें चलाई हैं। इसके लिए ऑन डिमांड बस सुविधा शुरू की गई है।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *