जनता के लिए खुला ब्रिटिशकाल में बना बार्नस-कोर्ट: इसी में चल रहा हिमाचल का राजभवन; भारत-पाक के बीच यहीं हुआ था शिमला समझौता

जनता के लिए खुला ब्रिटिशकाल में बना बार्नस-कोर्ट: इसी में चल रहा हिमाचल का राजभवन; भारत-पाक के बीच यहीं हुआ था शिमला समझौता


  • Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • Himachal Governor Shiv Pratap Shukla | Governor’s House Opened For General Public | Raj Bhavan | Glorious History | Barnes Court | Rashtrapati Bhavan ‘Retreat’ | Himachal Shimla News

शिमला4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

हिमाचल के शिमला में छराबड़ा स्थित राष्ट्रपति भवन ‘रिट्रीट’ के बाद अब शिमला में गवर्नर हाउस के दरवाजे भी आम जनता के लिए खोल दिए गए हैं। सूबे के राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल ने शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करके औपचारिक ऐलान किया। उन्होंने कहा कि वह चाहते हैं कि प्रदेश व देश के लोगों को गौरवमई राजभवन के बारे में जानकारी हासिल करने का मौका मिलना चाहिए।

इसलिए वह राजभवन के एकांगीपन को तोड़ना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि राजभवन शनिवार और रविवार को दोपहर 2 बजे से शाम 5 बजे तक आमजन के लिए खुला रहेगा।

1832 में बना था बार्नस-कोर्ट
राज्यपाल ने कहा कि 1832 में बना बार्नस-कोर्ट ब्रिटिश काल की धरोहर है, जो अब राजभवन है। इसके निर्माण में भारतीय दक्ष शिल्पियों का महत्वपूर्ण योगदान है। यह भवन कई ऐतिहासिक घटनाओं का साक्षी रहा है, इसलिए भी इसका विशेष महत्व है।

उन्होंने कहा कि यह धरोहर भवन समारोहों तक ही सीमित न रहे, इसलिए उनकी यह कोशिश है कि इसे ‘अमृत-काल’ में आम जनता के लिए भी खोला जाए ताकि वे भी इस धरोहर भवन का अवलोकन कर सकें और अपने इतिहास की जानकारी ले सके।

भारत-पाक के बीच यहीं हुआ था शिमला समझौता
इसी भवन में भारत-पाकिस्तान के बीच में 1972 में शिमला समझौता हुआ था। उस समझौते से जुड़ी वस्तुएं आज भी राजभवन में मौजूद हैं। देशभर से आने वाले पर्यटक इसे देख सकेंगे।

10 साल से कम उम्र के बच्चों को फ्री प्रवेश
प्रदेश के स्कूली छात्रों व 10 वर्ष से कम उम्र के सभी बच्चों के लिए राजभवन में प्रवेश फ्री रहेगा, जिसके लिए उन्हें अपना वैध परिचय पत्र प्रवेश के साथ दिखाना होगा। विश्वविद्यालय और कॉलेज के स्टूडेंट्स, राज्य और बाहरी राज्यों से आने वाले आगंतुकों को 30 रुपए शुल्क देने पर राजभवन में प्रवेश दिया जाएगा।

विदेशी पर्यटकों के लिए प्रवेश शुल्क 60 रुपए होगा। दिव्यांग जनों, राष्ट्रीय व राज्य स्तर पर पुरस्कृत व्यक्तियों के लिए प्रवेश फ्री होगा।

एक समय में 15 व्यक्ति कर सकेंगे भ्रमण
राजभवन के भ्रमण से पूर्व आगंतुकों को बार्नस कोर्ट के संक्षिप्त ऐतिहासिक और पुरातात्विक महत्व का वर्णन करने वाली एक लघु फिल्म भी दिखाई जाएगी। एक समय में राजभवन में किसी भी समूह के 15 व्यक्ति प्रवेश कर सकेंगे और स्कूली छात्रों के लिए समूह में 30 छात्र हो सकते हैं।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *