चिखड़ स्कूल का मामला: मिड डे मील में जातिगत भेदभाव से जुड़े मामले पर हाईकोर्ट ने लिया कड़ा संज्ञान, मुख्य सचिव से जवाब किया तलब

चिखड़ स्कूल का मामला: मिड डे मील में जातिगत भेदभाव से जुड़े मामले पर हाईकोर्ट ने लिया कड़ा संज्ञान, मुख्य सचिव से जवाब किया तलब


  • Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • High Court Took Strict Cognizance On The Matter Related To Caste Discrimination In Mid Day Meal, Summoned The Chief Secretary

शिमला2 दिन पहले

  • कॉपी लिंक

हाईकोर्ट ने शिमला जिला के चिखड़ स्कूल में मिड डे मील के दौरान जातिगत भेदभाव से जुड़े मामले पर कड़ा संज्ञान लिया है। कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश तरलोक सिंह चौहान और न्यायाधीश विरेंदर सिंह की खंडपीठ ने मुख्य सचिव से इस जनहित याचिका का जवाब तलब किया है।

मामले में मुख्य सचिव समेत प्रारंभिक शिक्षा के निदेशक और उप निदेशक और चिखड स्कूल के एसएमसी अध्यक्ष को प्रतिवादी बनाया है। मामले की सुनवाई 11 मई को निर्धारित की गई है। हाईकोर्ट ने स्वतः संज्ञान लेते हुए यह आदेश जारी किए। खबर में मिड-डे मील महिला कर्मी के साथ हो रहा जातिगत भेदभाव को उजागर किया गया है।

बताया गया है कि इसकी शिकायत बीते दिसंबर माह में स्कूल के प्रिंसिपल ने जिला उपनिदेशक को भेजी थी, लेकिन मामले पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। स्कूल में विवाद चल रहा : सूचना के अनुसार जब से स्कूल में एक दलित महिला को बतौर मिड-डे मील कर्मी नियुक्त किया है तब से स्कूल में यह विवाद उत्पन्न हुआ है। स्कूल के 40 बच्चों में से 20 बच्चे ही महिला के बनाए हुए भोजन को खाते है।

बाकी 20 बच्चे स्कूल में दोपहर का भोजन नहीं खाते। हालांकि जब दूसरे कर्मी भोजन तैयार करते है तो सभी बच्चे स्कूल में ही भोजन करते हैं। स्कूल में दोपहर के भोजन के लिए भी बच्चों को अलग-अलग बिठाया जाता है। जिन शिक्षकों ने यह मामला उठाया था उन्हें बाद में यहां से किसी अन्य स्कूल में ट्रांसफर कर दिया गया।

मामले में स्पष्ट किया गया है कि स्कूल प्रबंधन समिति के अध्यक्ष राम सिंह ने इस मामले पर अनभिज्ञता जताई है। उन्होंने कहा कि इसके बारे में उन्हें कोई पता नहीं है। हालांकि स्कूल के कई कार्यों में एसएमसी के प्रधान व सदस्यों की भागीदारी रहती है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *