खूनी संघर्ष मामले में ऊना कोर्ट का फैसला: नेपाली मूल का व्यक्ति दोषी करार, 3 साल की सजा के साथ लगाया 10 हजार रूपये जुर्माना

खूनी संघर्ष मामले में ऊना कोर्ट का फैसला: नेपाली मूल का व्यक्ति दोषी करार, 3 साल की सजा के साथ लगाया 10 हजार रूपये जुर्माना


ऊना2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

ऊना कोर्ट परिसर।

हिमाचल के ऊना की कोर्ट ने खूनी संघर्ष के मामले में किशन नेपाली को दोषी करार देते हुए 3 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है। जो नेपाल के अरगाकाछी जिला के भांगला का रहने वाला है। दोषी को 10 हजार रुपए जुर्माना भी अदा करना पड़ेगा। जुर्माना अदा न करने की सूरत में किशन नेपाली को 6 माह की अतिरिक्त कठोर सजा भुगतनी होगी।

डिस्ट्रिक्ट अट्रोनी सोहन सिंह कौंडल के अनुसार 1 सितंबर, 2022 में हरोली के छेत्रा स्थित हैप्पी ढाबा में एक घटना पेश आई थी। जिसमें किशन नेपाली ने किसी बात को लेकर अपने साथ काम करने वाले सुनील के साथ मारपीट की। जिस पर ढाबा मलिक ने किशन नेपाली को समझाकर उसे वापस कमरे में भेज दिया था।

नशे में धूत होकर किया था तेज धार हथियार से वार
इसके बाद शाम के समय किशन नेपाली शराब के नशे के धुत होकर वहां पहुंचा। इस दौरान उसने सुनील पर तेज धार हथियार से वार करके घायल कर दिया था। जिसका अस्पताल में ट्रीटमेंट कराया गया। इतने में किशन नेपाली ने एक अन्य वर्कर नवीन कुमार के साथ मारपीट की और उसे बुरी तरह से घायल कर दिया था। जिसे अस्पताल में प्राथमिक देने के बाद PGI चंडीगढ़ रेफर कर दिया था।

मामले में 9 गवाह हुए पेश
इसके बाद ढाबा मालिक सुरेश ने हरोली पुलिस ने शिकायत दर्ज कराई। जिस पर पुलिस ने किशन नेपाली के खिलाफ मामला दर्ज किया। पुलिस जांच पूरी होने के बाद कोर्ट में चालान पेश किया गया।

इसके बाद कोर्ट में मामले की सुनवाई हुई। जिसमें 9 गवाह पेश हुए। सुनवाई पूरी होने पर आज ACJM संदीप सिंह सिहाग ने IPC की धारा 326 के तहत किशन नेपाली को सजा सुनाने के आदेश पारित किए।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *