कई जिलों में हुई बारिश: 7 दिन से बंद चंडीगढ़-शिमला हाईवे छोटी गाड़ियों के लिए बहाल, 7 दिन तक मानसून फिर सक्रिय

कई जिलों में हुई बारिश: 7 दिन से बंद चंडीगढ़-शिमला हाईवे छोटी गाड़ियों के लिए बहाल, 7 दिन तक मानसून फिर सक्रिय


चंडीगढ़4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

चंडीगढ़-शिमला मार्ग बहाल होने के बाद गुजरते वाहन।

हिमाचल में मानसून की रफ्तार धीमी पड़ गई है। 24 घंटे के दौरान कांगड़ा और मंडी को छोड़ शेष कहीं पर भी बारिश नहीं हुई। वहीं, चंडीगढ़-शिमला नेशनल हाईवे जाबली के पास एक हफ्ते बंद रहने के बाद मंगलवार दोपहर बहाल किया गया। अभी यहां से सिंगल साइड से बारी-बारी छोटी गाड़ियों और पिकअप को निकाला जा रहा है। प्रदेश में भले ही मॉनसून की रफ्तार धीमी पड़ गई हो लेकिन प्रदेश में आई प्राकृतिक आपदा से नुकसान का आंकड़ा हर दिन बढ़ता जा रहा है। यह बढ़कर 6717 करोड़ के पास पहुंच गया है।

इस बीच 913 घर पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो चुके हैं, जबकि 7623 घरों को आंशिक रूप से नुकसान पहुंचा है। वहीं, पंजाब में अगले 7 दिन तक मानसून के प्रभाव में अलग-अलग जिलों में बारिश के आसार हैं। 15 तक मानसून एक्टिव रहेगा और माझा, मालवा व दोआबा में बारिश हो सकती है। मंगलवार को रोपड़, मोहाली समेत कई जगह बारिश हुई, जबकि चंडीगढ़ में 24 घंटे में 36.6 मिलीमीटर बारिश हुई।

मंगलवार को शुष्क मौसम के बीच पटियाला 37.9 डिग्री के साथ सबसे गर्म रहा। रात को 29.2 डिग्री के साथ फरीदकोट सबसे गर्म रहा था। हरियाणा में भी आज से मानसून सक्रिय हो सकता है। झज्जर में अधिकतम तापमान 37.2 डिग्री दर्ज किया है।

बड़े वाहन पुराने वैकल्पिक मार्ग से ही जाएंगे

इस महीने 49% कम बरसात हुई, हरियाणा में 14 अगस्त तक हल्की बारिश की संभावना

मानसून टर्फ का पश्चिमी छोर सामान्य स्थिति के उत्तर में हिमालय की तलहटियों की तरफ बढ़ने से हरियाणा-पंजाब में मानसून बारिश की गतिविधियों में पिछले एक सप्ताह से कमी दर्ज की गई है। आज से मानसून सक्रिय हो सकता है। 1 से 8 अगस्त तक हरियाणा में 22.5 मिमी बरसात हुई है, जबकि 43.7 मिमी होती है, यानी 49% कम बरसात हुई है।

एचएयू के मौसम विभाग के अध्यक्ष डॉ. मदन खीचड़ के अनुसार 10 से 14 अगस्त के दौरान हरियाणा में मौसम आमतौर पर परिवर्तनशील व बीच-बीच में बादलवाई व कुछ एक स्थानों पर छिटपुट बूंदाबांदी या हल्की बारिश की संभावना है। मानसून की सक्रियता 15 अगस्त के बाद फिर से बढ़ने की संभावना है।

मोहाली समेत पंजाब के 3 जिलों में लिया नुकसान का जायजा

बाढ़ से पंजाब में हुए नुकसान का जायजा लेने पहुंची 7 मेंबरी केंद्रीय टीम ने मंगलवार को पटियाला, मोहाली और संगरूर में निरीक्षण किया। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के वित्तीय सलाहकार रविनेश कुमार के नेतृत्व में पहुंची अंतर-मंत्रालय टीम बुधवार को जिला रोपड़ और जालंधर का दौरा करेगी। रविनेश कुमार ने कहा कि बाढ़ से हुए नुकसान की गहन समीक्षा की जा रही है। पंजाब सरकार भी एक ज्ञापन के रूप में अपनी रिपोर्ट टीम को देगी। इस रिपोर्ट के आधार पर केंद्र से वित्तीय राशि आवंटित होगी। गौरतलब है कि पंजाब सरकार 1500 करोड़ रुपए के मुआवजे की मांग कर चुकी है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *