इजराइल-हमास जंग का हिमाचल में असर: दिल्ली लौटने लगे इजराइली टूरिस्ट; धर्मकोट और पार्वती वैली में रेस्टोरेंट खाली हुए

इजराइल-हमास जंग का हिमाचल में असर: दिल्ली लौटने लगे इजराइली टूरिस्ट; धर्मकोट और पार्वती वैली में रेस्टोरेंट खाली हुए


प्रेम सूद, धर्मशाला10 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

इजराइल पर हमले के बाद हिमाचल के धर्मकोट और पार्वती वैली में काफी कम इजराइली टूरिस्ट दिखाई दे रहे हैं।

शबात यानी यहूदियों के नए साल के छुट्टी के दिन चरमपंथी समूह हमास द्वारा शनिवार को इजराइल पर किए हमले के बाद हिमाचल में मिनी तेल अवीव और मिनी इजराइल कहे जाने वाले धर्मकोट और पार्वती वैली कसोल में भी सन्नाटा छाया हुआ है। इजराइली व्यंजन परोसने वाले रेस्तरां जो इजराइली पर्यटकों से भरे रहते थे, रविवार को अधिकतर रेस्तरां खाली ही रहे।

धर्मकोट में साउथ इजराइल के अशदोद शहर की रहने वाली एक महिला पर्यटक मोहार ने बताया कि न्यूज चैनल में जो दिखाया जा रहा है, वहां उससे कई गुणा अधिक नुकसान हुआ है। उनके दोस्त और परिवार के लोग सोशल मीडिया ऐप की जरिए फोटो और वीडियो भेज रहे हैं वह भयावह है। बच्चों तक को भी नहीं बख्शा गया।

वह फिलिस्तीन लड़ाकों की इस लड़ाई से इसलिए भी चिंतित है क्योंकि यह लड़ाई सेना की बजाय मैन टू मैन (समुदायों) के बीच हो रही है। मोहार ने बताया उसके परिवार के लोग सुरक्षित नहीं है।

इजराइली टूरिस्ट मोहार और येला।

इजराइली टूरिस्ट मोहार और येला।

दिल्ली की तरफ लौटने लगे इजराइली पर्यटक
महिला येला ने बताया कि उसका परिवार तो सुरक्षित है, लेकिन उसकी एक दोस्त की फैमिली के 4 अन्य सदस्य इस हमले में मारे गए हैं। कुछ इजराइली तो दिल्ली वापस लौटना शुरू हो गए हैं और कुछ अपने एयर टिकट की बुकिंग चेंज करवाने के लिए ट्रैवल एजेंट्स को बोल चुके हैं। धर्मकोट के कुछ रेस्तरां मालिकों ने अपने सोशल अकाउंट्स की वॉल पर इजराइल में हुए आतंकी हमले पर अपनी संवेदना जताते हुए आई स्टैंड विद इजराइल का फ्लैग लगाकर अपनी संवेदनाएं प्रकट की हैं।

तेल अवीव की रहने वाली मीरा ने हमास के हमलों के बाद भारत के प्रधानमंत्री द्वारा इजराइल को दिए समर्थन पर भारत का धन्यवाद किया। कुछ दिन पूर्व जहां धर्मकोट में इजराइल रोश-हशाना का जश्न मना रहे और पार्टियां कर रहे थे वहां आज सन्नाटा छाया हुआ है। ट्रैवल एजेंट प्रेम सागर ने बताया कि युवा इजराइली पर्यटकों ने आज शाम को ही दिल्ली की बस बुक कर ली है। शीघ्र ही शेष इजराइली पर्यटक भी लौट जाएंगे।

इजराइल पर हमले के बाद रेस्टोरेंट संचालकों ने सोशल मीडिया पर इजराइल का सपोर्ट किया है।

इजराइल पर हमले के बाद रेस्टोरेंट संचालकों ने सोशल मीडिया पर इजराइल का सपोर्ट किया है।

लड़ाई का बिजनेस पर पड़ेगा असर
धर्मकोट निवासी एवं मैक्लोडगंज व्यापार मंडल के प्रेजिडेंट नरेंदर पठानिया ने कहा कि इजराइल में यह जो नरसंहार हुआ इससे हम सभी आहत हैं। इस दुख की घड़ी में हमारा समर्थन इजराइल के साथ है। इस लड़ाई का असर यहां के बिजनेस पर भी पड़ेगा। आने वाले समय भी कम इजराइली पर्यटक आएंगे। धर्मकोट को पहाड़ियों का तेल अवीव’ के रूप में जाना जाता है।

यह हिमाचल का एकमात्र गांव है जहां यहूदी सामुदायिक केंद्र है चबाड हाउस (चबाड हाउस इजराइली पर्यटकों के लिए सभी सुविधाएं प्रदान करता है और पूजा स्थल के रूप में कार्य करता है।) जो धर्मकोट गांव के बीच में स्थित है और 770 ईस्टर्न पार्कवे जैसा दिखता है।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *